Mohabbat

"Mohabbat bhi Zindagi ki tarah hoti hai
Har mod asaan nehi hota, har mod pe khushiya nehi milti.
Jab hum zindagi ka saath nehi chhodte toh
Mohabbat ka saath kyun chhode??
---Mohabbatein

Monday, 19 December 2016

Tadap---151(Self Discovery)



अर्ज़ किया है...



अर्ज़ किया है...

हर रोज़ शक होता है मुझे...

अपनि नीयत-ए-वफा पर

हर रोज़ गुज़रता हूँ उन्कि गलियों से

मेरे दिल कि तेज़ धड़कने बता देति है...

मुझे आज भि मुहब्बत है सिर्फ उन्हि से.



written over the IndiSpire Prompt no 148 
Link is given below...