Mohabbat

"Mohabbat bhi Zindagi ki tarah hoti hai
Har mod asaan nehi hota, har mod pe khushiya nehi milti.
Jab hum zindagi ka saath nehi chhodte toh
Mohabbat ka saath kyun chhode??
---Mohabbatein

Wednesday, 11 April 2018

Water Droplets---Four Sentence Half Fiction

Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers
"तुमहारी ये  देर से उठने की आदत तो कभी छूटेगी नहीं, में तो बहोत सुबह उठ जाती हूँ ,तो  शादी के बाद में ऐसा करूंगी के सुबह उठके नहा कर तैयार हो के में तुम्हारे पास बैठूँगी , तुम गहरी  नींद मे हो गे, और फिर में  तुम्हारे चहरे के ऊपर ज़ुल्फों को लहराउंगी  और पानी के बुँदे तुम्हारे पूरे चहरे पे छीरक दूँगी, देखना तब तुम्हारी नींद खुल जाएगी "




तभी राहुल की नींद खुल गई, अपनी  कान मे पानी की बुँदे महसूस किया उसने, बाए हाथ से कान को छूआ...हाँ पानी की बुँदे ही है, फिर धीरे धीरे हाथ को ऊपर की तरफ ले आया, गाल भी भीगा हुआ था...राहुल की आँखों से निकला आँसू से । 




सपना देख रहा था राहुल, पर ये कोई मन की ख़्वाहिश या फिर कल्पना  नहीं, ये उन दिनो के बात है ... जब टीना ने कभी उससे कही थी... अरसा पहले, वो दिन, वो वक़्त, टीना की वो सलवार, और कहने के बाद वो मीठी सी हंसी आज भी याद है । 





आज फिर से एक दिन गुज़ारना पढ़ेगा ... होठो पे झूठी मुस्कान  और चहरे पे झूठी खुशी लिए ।